यूथ एवं इको क्लब का जिला स्तरीय हुआ प्रशिक्षण

बालोद। समग्र शिक्षा छत्तीसगढ़ शासन वह प्रथम एजुकेशन फाऊंडेशन के संयुक्त उपक्रम से जो राज्य स्तरीय प्रशिक्षण हुआ उसी प्रशिक्षण को जिला परियोजना समग्र शिक्षा बालोद द्वारा जिला स्तरीय प्रशिक्षण का आयोजन किया गया। इस प्रशिक्षण का मुख्य उद्देश्य भारत सरकार की मिशन लाइफ के तहत पानी और मिट्टी की उपयोगिता और भू जल स्तर को बढ़ाने के लिए तथा स्कूल में किचन गार्डन में जैविक खेती पर विशेष रूप से प्रशिक्षण हुआ। प्रशिक्षण में छत्तीसगढ़ राज्य भारत देश और विश्व में जो पीने योग्य पानी की संकट है उसके संबंध में सभी उपस्थित शिक्षकों को बताया गया तथा भविष्य में पानी की उपलब्धता नहीं होने पर भी विस्तृत चर्चा हुई तथा बारिश के पानी को कैसे संग्रहित किया जाए खरीफ और रबी फसल में कौन कौन सी फसल लिया जाए जिसमें कम से कम पानी खर्च हो। पोषण वाटिका के संबंध में यह जानकारी दिया गया कि किस प्रकार के पौधे, सब्जी, फल को कैसे बेड और ट्रेंच बनाकर लगाए। मिश्रित खेती कैसे करें फसल चक्र की खेती करें और इस प्रशिक्षण का मुख्य उद्देश्य है सभी स्कूलों में शिक्षकों व बच्चों द्वारा पर्यावरण को संरक्षित करने हेतु इको क्लब के माध्यम से जन जागरूकता लाना और जन समुदाय को महत्वपूर्ण कार्य से जोड़ना ताकि भविष्य में पर्यावरण का संतुलन बना रहे तथा प्रत्येक स्कूल में मध्यान भोजन जो चल रही है उसके लिए बिना रासायनिक दवा के प्रयोग वाले सब्जियों से बच्चों को लाभान्वित करना इसके लिए प्रत्येक स्कूल में पोषण वाटिका का निर्माण किया जाना है। प्रशिक्षण में बालोद जिला के डीएमसी श्री अनुराग त्रिवेदी सर एपीसी श्री आर के सिन्हा सर तथा राज्य स्तर के मास्टर ट्रेनर्स श्री नरेंद्र कुमार रजक व श्रीमती सोनाली विश्वास एवं बालोद जिला के पांच वि खं 30 शिक्षक शामिल हुए जो ब्लॉक स्तर के सभी स्कूल के एक-एक शिक्षक को प्रशिक्षण देंगे जिसके माध्यम से पर्यावरण संरक्षण का कार्यक्रम चलेगा।

एक अनूठी पहल: गुरुर तहसील कार्यालय में हुआ हेलमेट पहनना अनिवार्य, समाज सेवी जयंत किरी ने भी बांटे 20 हेलमेट

एसडीएम ने कहा: दफ्तर आने वालों को पहनना होगा हेलमेट, सड़क हादसे रोकने अब दिखानी होगी गंभीरता

बालोद/गुरुर। गुरुर नगर के तहसील कार्यालय में अब हेलमेट पहनना अनिवार्य कर दिया गया है। यह नियम जिला कलेक्टर के निर्देश पर स्थानीय प्रशासन द्वारा बनाया गया है. ताकि लोगों में ट्रैफिक नियमों के प्रति जागरूकता आ सके। एसडीएम पूजा बंसल ने इस दिशा में अपने कर्मचारियों अधिकारियों सहित दफ्तर आने वाले समस्त लोगों से अपील की है कि वह कार्यालय में आते हैं तो हेलमेट पहनकर ही प्रवेश करें। परिसर में लोग हेलमेट पहने नजर आने चाहिए। सभी पक्षकार हो चाहे वकील हो चाहे कोई भी व्यक्ति जो भी तहसील कार्यालय में काम से आते हैं हेलमेट पहनकर जरूर गाड़ी में आए और एक दूसरे को भी हेलमेट पहनने के लिए प्रेरित करें । इस तरह पहल कर लोगों में यातायात के प्रति जागरूकता लाने का प्रयास किया जाएगा और लोगों को हेलमेट पहनने की आदत डलवाई जाएगी ।

समाजसेवी जयंती किरी भी आगे आए लोगों को जगाने में, बांट रहे निशुल्क हेलमेट

गुरुर एसडीएम के पहल से प्रभावित होकर समाजसेवी जयंत किरी द्वारा भी लोगों को यातायात के नियमों के प्रति जागरूक करना शुरू कर दिया गया है। उनके द्वारा स्वयं एसडीएम तहसील कार्यालय परिसर में आने वाले 20 लोगों को निशुल्क हेलमेट बांटा गया और उन्हें रोज हेलमेट पहनने के लिए प्रोत्साहित किया गया ।तो वही जिन लोगों ने हेलमेट पहने थे या जो यातायात नियम को लेकर जागरूक है उन्हे गुलाब का फूल भेंट कर सम्मानित भी किया। ऐसे लोगों को दूसरों के लिए प्रेरणा स्रोत बताया और ज्यादा से ज्यादा लोगों को हेलमेट पहनने के लिए जागरूक करने की बात कही। ज्ञात हो कि एक दिन पूर्व उनके परिवार द्वारा तहसील कार्याय परिसर में वाटर कूलर लगवाया गया है। जहां आने वाले लोगों को तपती गर्मी में अब ठंडा पानी मिलने से राहत महसूस हो रही है। लगातार किरी परिवार का तहसील कार्यालय पहल की जाती रही है। उनके परिवार द्वारा 2001 में यहां सहयोग पार्क तक की भी स्थापना किया गया था। जिसके चलते आज यहां हरियाली है। लगातार पर्यावरण संरक्षण सहित लोगों की जन सेवा का कार्य जयंत किरी और उनके परिवार वाले कर रहें है। अब हेलमेट जागरूकता अभियान में भी समाज सेवा करते हुए उन्होंने एक अनुकरणीय मिसाल पेश की है ताकि दुर्घटनाओं में घायलों की जान बचाई जा सके।

सबसे ज्यादा सड़क हादसे हमारे इलाके में

एसडीएम पूजा बंसल में कहा कि यह चिंता का विषय है कि पूरे बालोद जिले में सबसे ज्यादा सड़क हादसे गुरुर ब्लॉक में होते हैं । इसकी प्रमुख वजह इलाके में नेशनल हाईवे का होना है। जहां पर लापरवाही पूर्वक वाहन चलाने से हादसे होते रहते हैं । इसमें कई लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। उन्होंने कहा कि हेलमेट पहनने से हम 40% सड़क दुर्घटनाओं को कम कर सकते हैं । घायलों की जान बचा सकते हैं। वरना हेलमेट ना पहने होने से हैंड इंजुरी से कई दफा घायलों की मौके पर या अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो जाती है। हेलमेट पहनना बहुत जरूरी है। भले ही लोग इसे बोझिल समझते हैं लेकिन इसे अपने आदत में शामिल जरूर करें। ताकि खुद का और दूसरों का भी जीवन बचा सके। उन्होंने अपने समस्त स्टाफ और अधिवक्ताओं से अपील की है कि अपने आसपास के लोगों को भी हेलमेट पहनने के लिए प्रोत्साहित करें और कार्यालय आने पर हेलमेट जरूर पहन करके आए।

चलाया जा रहा है विशेष जागरूकता अभियान

ज्ञात हो कि जिला प्रशासन के निर्देश पर स्थानीय राजस्व अधिकारियों के द्वारा भी लोगों में यातायात के नियमों के प्रति जागरूकता लाने के लिए विशेष अभियान चलाया जा रहा है। इसके तहत लोगों को फिलहाल समझाइश देकर हेलमेट पहनने के लिए कहा जा रहा है। यह प्रथम चरण है ।उसके बाद कार्रवाई का चरम शुरू होगा। लोगों को पहले से समझाया जा रहा है कि अभी हेलमेट पहले वरना चालानी कार्रवाई के लिए तैयार रहे। स्वयं से सुधार करते हुए एसडीएम ने हेलमेट के अनिवार्यता का नियम अपने कार्यालय में लागू किया है ताकि दूसरे भी इससे सीख लें ।कलेक्टर इन्द्रजीत सिंह चन्द्रवाल के निर्देशानुसार इलाके में सड़क दुर्घटना के प्रभावी उपाय सुनिश्चित करने हेतु निरंतर कार्य किए जा रहे हैं। इसके अंतर्गत राजस्व, पुलिस, परिवहन एवं अन्य संबंधित विभाग के द्वारा ओव्हरलोडिंग एवं लापरवाही पूर्वक वाहन चलाने वालों के विरुद्ध कार्यवाही के अलावा दो पहिया वाहन चलाने वालों को अनिवार्य रूप से हेलमेट पहनने तथा निर्धारित गति पर ही वाहन चलाने के लिए समझाईश दी जा रही है। अधिकारी-कर्मचारियों द्वारा बिना हेलमेट के दो पहिया वाहन चलाने वालों को रोककर उन्हे अनिवार्य रूप से वाहन चलाने की समझाईश दी जाती है। दो पहिया वाहन चालकों को हेलमेट उपयोग नही करने से होने वाले हानि के संबंध में जानकारी दी जाती है और उन्हें अनिवार्य रूप से हेलमेट पहनने तथा निर्धारित गति पर वाहन चलाने को कहा जा रहा है।

ये भी पढ़ें

गुरुर के किरी परिवार ने दिया तहसील कार्यालय में वाटर कूलर, प्रशासन ने जताया आभार

2001 से उनके द्वारा लगाए पौधे आज पेड़ बन दे रहा लोगों को छाया

गुरुर। गुरुर नगर के रहने वाले जयंत किरी और उनके परिवार वालों द्वारा गुरुर नगर तहसील कार्यालय में वाटर कूलर प्रदान किया गया है । इसका शुभारंभ गुरुवार को किया गया
इस सुविधा के लिए तहसील कार्यालय प्रशासन द्वारा जयंत किरी और उनके परिवार को साधुवाद देते हुए आभार जताया गया। साथ ही तहसील कार्यालय आने वाले पक्षकारों, वकीलों और अन्य कर्मचारियों ने भी इस पहल के लिए धन्यवाद स्थापित किया। लोगों को ठंडा पानी नसीब हो इस बात का ध्यान रखते हुए समाज सेवी जयंत किरी ने यहां वाटर कूलर लगवाया है । जिससे अब लोगों को काफी राहत मिलेगी। एसडीएम पूजा बंसल द्वारा किरी परिवार का आभार जताते हुए कहा गया कि इस तरह नेक काम से लोगों को सेवा कार्य के लिए प्रेरणा मिलती है। किरी परिवार का सहयोग गुरुर तहसील कार्यालय को हमेशा मिलते आया है। मुझे जानकर खुशी होती है कि यहां 2001 में एक सहयोग पार्क बनाया गया है। जब 2001 में पौधे लगे वह आज पेड़ बन चुके हैं और तहसील कार्यालय में आने वाले लोगों चारों तरफ हरियाली के साथ सुकून भरा छांव नसीब होता है। पर्यावरण संरक्षण के लिए भी लगातार जयंत किरी प्रयास करते आए हैं। स्वयं पेड़ पौधे लगाने के साथ दूसरों को भी प्रेरित करते हैं। शुभारंभ परगुरुर एसडीएम पूजा बंसल के द्वारा पूजा पाठ कर नारियल चढ़ाया गया। गुरुर तहसीलदार हनुमंत प्रसाद और नायब तहसीलदार मंडावी के अलावा तहसील के समस्त कर्मचारी , अधिवक्ता
गण एवं किरी परिवार के सदस्य मौजूद रहे ।

बोर खनन भी करवा चुका किरी परिवार

ज्ञात हो कि किरी परिवार ने पहले भी पानी एवं पर्यावरण के लिए बोर खनन भी करवाया एवं पौधा रोपण भी परिवार द्वारा किया गया है। जिससे आज ग़ुरूर तहसील में छाव की व्यवस्था बनी हुई है।
परिवार द्वारा निःस्वार्थ ऐसे सामाजिक कार्य किए जाते रहे है इस दौरान धनंजय किरी और जयंत किरी मौजूद रहे।

ऐसे बना था सहयोग पार्क

छ.ग. के प्रथम मुख्यमंत्री अजीत जोगी के प्रेरक एवं गरिमामयी उपस्थिति में वृक्षारोपण हुआ था। जिससे सहयोग पार्क 2001 में बना था। इसके प्रेरणास्त्रोत आई.सी.पी. केशरी (आईएएस) तत्कालीन कलेक्टर जिला-दुर्ग रहे।
संरक्षक आमीर अली अपर कलेक्टर दुर्ग, मुख्य रोपण कर्ता एच.एल. गायकवाड़ नायब तहसीलदार गुरुर,मुख्य देखभाल एवं संरक्षणकर्ता मोहम्मद खान तत्कालीन पार्षद नगर पंचायत गुरुर,सहयोगी सियाराम लावत्रे अधिवक्ता गुरुर,चौकीदार एवं पानी देने वालाईश्वर लाल साहू गुरुर, प्रमुख सहयोगकर्ता बंजर जमीन बोरखनन में वेद प्रकाश किरी उद्योगपति न.पं. गुरुर रहे हैं।

भरदाकला निवासी श्री रामचरित मानस के पुरोधा एमआर यादव नहीं रहे, 78वर्ष की उम्र में ली अंतिम सांस,45 साल तक जगाते रहे राम नाम का अलख

बालोद। अर्जुंदा से राजनांदगांव पर स्थित ग्राम भरदा कला निवासी श्री रामचरित मानस के पुरोधा एमआर यादव अब इस दुनिया में नहीं रहे, 78वर्ष की उम्र में उन्होंने अंतिम सांस ली। वे रामायण पाठ के लिए पूरे छत्तीसगढ़ में परिचित रहे है। 45वर्ष पूर्व रामायण समिति के माध्यम से श्री रामचरित मानस की ब्याख्या की शुरुआत करने वाले यादव जी इन 45 वर्षों में पूरे छत्तीसगढ़ के ऐसा क़ोई अंचल नहीं छूटा है जहाँ रामायण कार्यक्रम में नहीं गये हो। श्री यादव जी को उनकी प्रतिभा के लिए कई मंचो पर सम्मानित भी किया गया है। वर्तमान में सत्यम शिवम सुंदरम रामायण मंडली से जुड़ कर रामायण पाठ कर रहे थे। यादव जी प्रारम्भ से ही कला के क्षेत्र में अग्रणी रहे है ग्राम नवयुवक मंडल से कला क्षेत्र की शुरुआत करने वाले यादव जी लीला मंडली, तबला वादन में भी पारंगत थे। साथ ही कई वर्षों से छत्तीसगढ़ी कविता सम्मेलन में भी भाग लेते थे। रामायण ब्याख्या में पूरे छत्तीसगढ़ में उनका नाम काफ़ी मशहूर रहा है। कांग्रेस नेता क्रांति भूषण ने कहा उनके निधन पर भरदा कला ग्राम सहित पूरे अंचल में शोक की लहर है । श्री रामचरित मानस में आने वाले समय में उनकी कमी की भरपाई कर पाना मुश्किल है।

मुख्यमंत्री के निज सहायक तुलसी कौशिक पहुंचे डौंडीलोहारा राजमहल , लिए राम मंदिर और दंतेश्वरी मंदिर में आशीर्वाद

युवराज लाल निवेंद्र सिंह टेकाम ने रखी क्षेत्र की समस्याएं, नगर और पंचायत चुनाव को लेकर भी बनी रणनीति

बालोद/ डौंडीलोहारा। डौंडीलोहारा के राजमहल में गुरुवार को मुख्यमंत्री माननीय श्री विष्णु देव साय के निज सहायक श्री तुलसी कौशिक का आगमन हुआ। इस दौरान युवराज लाल निवेंद्र सिंह टेकाम ने उनसे विधान सभा क्षेत्र की समस्याओं के बारे में चर्चा की। साथ ही नगर पंचायत और आने वाले ग्राम पंचायत चुनाव की रणनीति को लेकर भी विशेष चर्चा हुई। फिर वे सभी के साथ राम मंदिर में दर्शन करने पहुंचे।

इसके बाद राजपरिवार की कुल देवी मां दंतेश्वरी का भी आशीर्वाद लिए। इस दौरान निज सहायक श्री कौशिक ने सभी से बारी बारी मुलाकात की। वहीं इस बीच बालोद जिले के युवा पत्रकार दीपक यादव (डेली बालोद न्यूज) के स्वास्थ्य को लेकर चल रहे इलाज और परेशानी को भी उन्हे युवराज लाल निवेंद्र सिंह टेकाम ने अवगत कराया कि कैसे उनका गले का दो ऑपरेशन हुआ है और करीब 40 दिन से वे संघर्ष कर रहें हैं उनके आगे इलाज में शासन से मदद दिलाने की बात हुई। जिस पर निज सहायक श्री कौशिक ने भी पूर्णतः आश्वस्त किया इस बारे में मुख्यमंत्री को विशेष रूप से अवगत कराकर आचार संहिता उपरांत पत्रकार दीपक यादव की मदद की जाएगी।

इस दौरान प्रमुख रूप से लाल कौशल सिंह टेकाम पार्षद नारायण सिन्हा पार्षद सोहद्र देवांगन , हिंदू सम्राट विशाल मोटवानी , युवा नेता जयदीप गुप्ता, युवा नेता निखिल शर्मा, राजू भंसाली , हिम्मत देशमुख, प्रणव साहू निरंजन पड़ोटी , अंगद टेकाम , श्री राम राणा , मनीष साहू , कोमल जंघेल , रजनीश यादव मौजूद रहे।

अंधविश्वास के कारण होती है बलि की घटनाएं . डॉ दिनेश मिश्र बोले: ग्रामीण अंधविश्वास में न पड़ें

बालोद/ रायपुर। अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति के प्रदेश अध्यक्ष डॉ दिनेश मिश्र ने कहा पिछले दिनों बलरामपुर जिले के एक व्यक्ति कमलेश नगेशिया ने अपने 4 वर्ष के बच्चे की बलि दे दी उसके कुछ दिनों पहले नवरात्रि में भी कोरिया जिले में एक धनेश्वर नामक बालक की बलि का मामला सामने आया था जिसके रिश्तेदारों ने ही ,पिछले सप्ताह ही सरगुजा के शंकरगढ़ एक व्यक्ति ने एक झाड़ फूंक करने वाले बैगा की यह मानकर हत्या कर दी, कि वह झाड़ फूंक से उसको ठीक नहीं कर पा रहा है .अंधविश्वास के कारण यह तीनों हत्या की घटनाएं अत्यंत दुखद है ग्रामीणों को अंधविश्वास भरोसा नहीं करना चाहिए एवं कानून को हाथ में नहीं देना चाहिए। डॉ दिनेश मिश्र ने कहाअंधविश्वास में पड़ कर व्यक्ति मानसिक रुप में असंतुलित हो जाता है और वह मिथकों पर पूरी तरह भरोसा करने लगता है, कही सुनी किस्से कहानियां , भ्रामक खबरें अफवाहें उसे और भी भ्रमित कर देती हैं और वह अपराध कर बैठता है .
डॉक्टर दिनेश मिश्र ने कहा लोगों में वैज्ञानिक दृष्टिकोण को विकसित करने की आवश्यकता है जिससे लोग सुनी सुनाई घटनाओं अफवाहें और भ्रामक खबरों पर भरोसा ना करें और अंधविश्वास में ना पड़े
डॉ दिनेश मिश्र ने कहा कुछ मामलों में व्यक्ति किसी इष्ट देवी, देवता ,का सपना आने और सपने में बलि मांगने की बात भी कहते हैं और कहते हैं कि उन्होंने उनके आदेश पर किसी की बलि /कुर्बानी दे दी है जबकि लोगों को यह सोचने की आवश्यकता है कि किसी की जान लेकर कर कोई भी व्यक्ति सफल नहीं हो सकता और उसे अपराध करने के करण अंततः जेल जाना पड़ता है.
डॉ दिनेश मिश्र ने कहा अंधविश्वास के करण जो व्यक्ति मानसिक उद्वेग में चला जाता है तब वह कई बार स्वयं के अंदर किसी अदृश्य शक्ति में प्रवेश होने की बात भी करता है तथा वह किसी के सपने में आने या किसी के आदेश देने या कानों में आवाज सुनाई पढ़ने ऐसी बातें भी करता है जबकि यह एक प्रकार का मानसिक विचलन का ही कारण है ,यह एक प्रकार का मासिक संतुलन का प्रतीक है और बहुत सारे लोग बहुत संवेदनशील होते हैं और वह भावावेश में आकर कानून हाथ में लेते हैं, इनमें से कुछ लोग सार्वजनिक रुप से भी असंतुलित व्यवहार भी प्रकट करते हैं जैसे झूमना ,बड़बड़ाना मारना पीटना आदि . ऐसे में किसी चिकित्सक को किसी को दिखाया जाए उसका उपचार हो ,उसकी सभी तरह से काउंसलिंग की जाए तो व्यक्ति ठीक हो जाता है. और समाज के लिए उपयोगी सिद्ध हो सकता है।

ब्रेकिंग; बालोद में नशीली गोलियों का अवैध धंधा करने वाले दो गिरफ्तार, 10 किलो गोलियां बरामद, 2019 में जेल जा चुका है एक तस्कर

बालोद। बालोद पुलिस ने नशीली गोलीयों के दो तस्करों को गिरफ्तार किया है। आरोपीयों के कब्जे से 10.718 किलो ग्राम नशीली दवाई जिसकी कीमती 1 लाख 44 हजार 300 रू व मोटर सायकल क्रमांक सी.जी. 24 एफ 7028 कीमती 20000 रू कुल जुमला रकम 1 लाख 64300 रू को जप्त किया गया है। मामले का खुलासा गुरुवार को पुलिस ने किया।

पूर्व में भी एक आरोपी विश्वपति गोराई वर्ष 2019 में नशीली गोली की तस्करी में जेल जा चुका है। इसके बाद भी उसने नशे का कारोबार नहीं छोड़ा था। जिस पर पुलिस और ड्रग्स विभाग की नजर रही। मौके पाते ही छापा मारकर दो लोगो को पकड़ा गया। जो छोटे बच्चों और युवाओं को नशे के गिरफ्त में लेकर आदी बनाए हुए थे।

पुलिस पुलिस महानिरीक्षक दुर्ग रेंज रामगोपाल गर्ग के निर्देशन पर पुलिस अधीक्षक बालोद एस.आर. भगत के मार्गदर्शन में, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बालोद अशोक कुमार जोशी एवं पुलिस अनुविभागीय अधिकारी वालोद देवांश सिंह राठौर के पर्यवेक्षण में थाना प्रभारी बालोद निरीक्षक रविशंकर पाण्डेय को क्षेत्र में युवाओं के द्वारा लगातार नशीली दवाईयों की सेवन करने की शिकायत लगातार मिलने से वरिष्ठ अधिकारीयों के द्वारा कार्यवाही करने हेतु मार्गदर्शन देकर निर्देशित किया गया था। जिसके परिपालन में लगातार टीम बनाकर अवैध नशीली दवाई का बिक्री करने वाले तस्करो के लिये मुखबीर तैनात किया गया था। इसी बीच 29 मई को सूचना मिला कि ग्राम पडकीभाठ बायपास रोड की ओर 02 व्यक्ति एक मोटर सायकल में अधिक मात्रा में नशीली दवाई रखे है तथा उसे बेंचने खपाने के लिए ग्राहक का तलाश कर रहे है। सूचना पर ग्राम पडकीभाठ बायपास रोड में तांदुला नदी पुल के ऊपर 2 व्यक्ति खड़े दिखे ।जिन्हे संदेह के आधार पर उनके पास जाकर उनका नाम पता पूछने पर अपना अपना नाम विश्वपति गोराई तथा धर्मेन्द्र यादव बालोद निवासी होना बताया। मोटर सायकल में रखे दो सफेद रंग की प्लास्टिक बोरी में भरे हुए वस्तु के संबंध में तथा खड़े होने के सबंध में पूछने पर गोल मटोल कर जवाब देने लगा। जो संदेह उत्पन्न होने पर दोनो व्यक्ति के पास रखे (खुद के) मोटर सायकल क्रमांक में रखे 02 सफेद रंग की प्लास्टिक बोरी को बारी बारी खोलकर तलाशी लिया गया।

जो एक बोरी में काला ब्राउन रंग के कार्टून में भरा हुआ एलप्राजोलेम टेबलेट -12 पैकेट दूसरे में 7 पैकेट और ट्रेमा डॉल कैप्सूल 21 पैकेट मिला तथा दूसरे सफेद रंग की बोरी को खोलने पर उसके अंदर काला भूरा नीला रंग के दो कार्टून में भरा हुआ ट्रेमा डॉल कैप्सूल 72 पैकेट मिला।

जिसे मौके पर तौल कराने पर मादक पदार्थ नशीली टेबलेट एवं कैप्सूल का जुमला वजन 10.718 किलो ग्राम होना पाया गया। जिसकी कीमती 1 लाख 44300 रू है। आरोपी विश्वपति गोराई एवं धर्मेन्द्र यादव के विरूद्ध थाना बालोद में अपराध क्रमांक 290/2024 धारा 22 (सी) एन.डी. पी.एस एक्ट के तहत अपराध पंजीबद्ध कर विधिवत गिरफ्तार कर न्यायिक रिमाण्ड पर भेजा गया।

इनकी रही विशेष भूमिका

उक्त अवैध मनःप्रभावी पदार्थ की रेड कार्यवाही में थाना बालोद के निरीक्षक रविशंकर पाण्डेय, सउनि धरम भुआर्य, प्र.आर. संदीप बंजारे, हरीशचंद्र सिन्हा, आरक्षक भोपसिंह साहू, मोहन कोकिला, धनेश्वर साहू, सायबर सेल से मिथलेश यादव एवं औषधी निरीक्षक दीपीका चुरेन्द्र की महत्वपूर्ण भूमिका रही। आरोपीगण विश्वपति गोराई पिता जीरूमल गोराई उम्र 31 साल साकिन 19 बुढ़ापारा बालोद धर्मेंद्र यादव पिता श्री होरी लाल यादव उम्र 35 साल कुर्मीपारा बालोद के रहने वाले हैं।

कलेक्टर ने उत्कृष्ट अंक अर्जित करने वाले दृष्टि-बाधित विद्यार्थी खेमलाल एवं प्रियांशु का किया सम्मान

खेमलाल के सु-मधुर गीत को सुनकर हुए भावविभोर, विद्यार्थियों की उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए उन्हें बधाई एवं शुभकामनाएं दी

बालोद।
कलेक्टर श्री इन्द्रजीत सिंह चन्द्रवाल ने आज संयुक्त जिला कार्यालय अपने कक्ष में जिले के गुण्डरदेही विकास खण्ड के दिव्यांग विद्यार्थियों के विशेष आवासीय प्रशिक्षण केन्द्र कचान्दुर के विद्यार्थी खेमलाल यादव एवं प्रियांशु सोनकर को स्मृति चिन्ह भेंटकर सम्मानित किया।

उल्लेखनीय है कि विशेष आवासीय प्रशिक्षण केन्द्र कचान्दुर के विद्यार्थी श्री खेमलाल यादव ने कक्षा 12वीं कला संकाय में 77.04 प्रतिशत अंक तथा प्रियांशु सोनकर ने 82.02 प्रतिशत अंक अर्जित कर उत्तीर्ण हुए है। जो कि दोनांे दृष्टि बाधित विद्यार्थी के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण उपलब्धि है। इस अवसर पर दृष्टि बाधित विद्यार्थी खेमलाल यादव ने मौके पर उपस्थित अधिकारी-कर्मचारियों के सामने सु-मधुर गीत की प्रस्तुति सभी को भावविभोर कर दिया। कलेक्टर श्री चंद्रवाल ने दृष्टि बाधित विद्यार्थी खेमलाल सु-मधुर गीत की प्रस्तुति तथा उनके उत्कृष्ट प्रतिभा की भूरी-भूरी सराहना की। कलेक्टर ने इन दोनो विद्यार्थियों को उनके द्वारा निर्धारित किए गए लक्ष्य के संबंध मेें जानकारी ली। दृष्टि बाधित विद्यार्थी खेमलाल ने गायक बनने तथा प्रियांशु सोनकर ने शिक्षक बनने की बात कही। कलेक्टर श्री चन्द्रवाल ने इन दोनों दृष्टि बाधित विद्यार्थियों की उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए उन्हे हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दी। इस दौरान वरिष्ठ पत्रकार श्री दरवेश आनंद, समाज कल्याण विभाग के उपसंचालक श्री अजय गेडाम एवं दृष्टि बाधित शिक्षक श्री अरविन्द शर्मा सहित इन दोनोें विद्यार्थियों के परिजन उपस्थित थे।

सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने- अधिकारियों कर्मचारियों द्वारा आम लोगों को दी हेलमेट पहनने की समझाईश इस दिशा मे निरंतर कर रहे प्रयास

बालोद।
कलेक्टर श्री इन्द्रजीत सिंह चन्द्रवाल के निर्देशानुसार बालोद जिले में सड़क दुर्घटना के प्रभावी उपाय सुनिश्चित करने हेतु निरंतर कार्य किए जा रहे हंै। इसके अंतर्गत राजस्व, पुलिस, परिवहन एवं अन्य संबंधित विभाग के द्वारा ओव्हरलोडिंग एवं लापरवाही पूर्वक वाहन चलाने वालों के विरूद्ध़ कार्यवाही के अलावा दो पहिया वाहन चलाने वालों को अनिवार्य रूप से हेलमेट

पहनने तथा निर्धारित गति पर ही वाहन चलाने के लिए समझाईश दी जा रही है। इसके अंतर्गत अपर कलेक्टर श्री चन्द्रकांत कौशिक सहित जिले के अन्य अधिकारी-कर्मचारियों ने बिना हेलमेट के दो पहिया वाहन चलाने वालों को रोककर उन्हे अनिवार्य रूप से वाहन चलाने की समझाईश दी। इस दौरान आज अपर कलेक्टर श्री चन्द्रकांत कौशिक जिला मुख्यालय बालोद के पेट्रोल पंप में पहुंचकर दो पहिया वाहन चालकों को हेलमेट उपयोग नही करने से होने वाले हानि के संबंध में जानकारी दी और उन्हें अनिवार्य रूप से हेलमेट पहनने तथा निर्धारित गति पर वाहन चलाने को कहा।

भोइनापार में रात्रिकालीन प्लास्टिक बाल क्रिकेट प्रतियोगिता शुरु

बालोद।ग्राम भोइनापार (लाटाबोड़ ) में महाकाल आरसीबी एवं समस्त ग्रामवासी के तत्वाधान में प्लास्टिक बॉल क्रिकेट प्रतियोगिता का आयोजन 29 मई से नवीन पंचायत मैदान मे क्रिकेट मैच बुधवार को शुरु हुई । जिसमे प्रथम पुरुष्कार 5001 रुपये,द्वितीय पुरुष्कार 3001 रुपये, एवं तृतीय पुरुष्कार 2001 रुपये रखा गया हैं, स्पर्धा में प्रवेश शुल्क 301 रुपये निर्धारित की गई हैं। कप्तान चिम्मन यादव, अध्यक्ष युवराज साहू,उपाध्यक्ष अभिषेक कुमार साहू, कोषाध्यक्ष भावेश कुमार, फलेन्द्र कुमार साहू, इंद्रकुमार साहू, देवनारायण साहू,पीताम्बर भूपेंद्र कुमार,योगेश कुमार डिकेशवर ,अविनाश यादव कामेन्द्र यादव, भावेश गंगबेर, निर्मल यादव, हनेश ठाकुर, गणेश्वर ठाकुर, सहित सदस्य गण कार्यक्रम मे अपनी योगदान दे रहे हैं।